Most Famous Love Shayari By Gulzar

When we talk about lyrics,poems,shayari’s ,the most renowned person that comes to our mind is Gulzar. Sampooran Singh Kalra (born 18 August 1934), known popularly by his pen name Gulzar, is an Indian lyricist, poet, author, screenwriter, and film director.Gulzar Shayari has it’s own beauty and the weight that those lines carry mesmerizes us.

Most Famous Love Shayari By Gulzar


In this blog, I share with you some of the very famous gulzar shayari and also my favorite gulzar poems and gulzar quotes.

Most Famous Love Shayari By Gulzar

मैंने दबी आवाज़ में पूछा – “मुहब्बत करने लगी हो?”
नज़रें झुका कर वो बोली – “बहुत”

Maine dabee aawaaz mein poochha – “mohabbat karane lagi ho?”
Nazaren jhuka kar vo bolee – “bahot”

शाम से आँख में नमी सी है
आज फिर आप की कमी सी है

shaam se aankh mein namee see hai
aaj phir aap kee kamee see hai

खुली किताब के सफ़्हे उलटते रहते हैं
हवा चले न चले दिन पलटते रहते है

khulee kitaab ke safhe ulatate rahate hain
hava chale na chale din palatate rehate hai

काँच के पीछे चाँद भी था और काँच के ऊपर काई भी
तीनों थे हम वो भी थे और मैं भी था तन्हाई भी

kaanch ke peechhe chaand bhi tha aur kaanch ke upar kaee bhi
teeno the hum vo bhi the aur main bhi tha tanhaee= bhee

ज़मीं सा दूसरा कोई सख़ी कहाँ होगा
ज़रा सा बीज उठा ले तो पेड़ देती है

zameen sa doosara koi sakhee kahaan hoga
zara sa beej utha le to ped dete hai

हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते
वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते

haath chhooten bhi to rishte nahin chhoda karate
waqt ke shaakh se lamhe nahin toda karate

तुम्हारी ख़ुश्क सी आँखें भली नहीं लगतीं
वो सारी चीज़ें जो तुम को रुलाएँ, भेजी हैं

tumhaaree khushk see aankhen bhalee nahin lagati
vo saaree cheezen jo tum ko rulaen, bhejee hain

पल पल रंग बदलती हैं ये दुनिया
और लोग पूछते है कि होली कब हैं।

pal pal rang badaltee hain ye duniya
aur log puchate hai ki holi kab hain.

आइना देख कर तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

aaina dekh kar tasallee huee
hum ko is ghar mein jaanta hai koi


gulzar shayari in hindi


दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई
जैसे एहसान उतारता है कोई

din kuch aise guzarta hai koi
jaise ehasaan utaarata hai koi

हम ने अक्सर तुम्हारी राहों में
रुक कर अपना ही इंतिज़ार किया

hum ne aksar tumhaaree raahon mein
ruk kar apana hi intizaar kiya

आप के बाद हर घड़ी हम ने
आप के साथ ही गुज़ारी है

aap ke baad har ghadi hum ne
aap ke saath hi guzaaree hai

बहुत मुश्किल से करता हूँ तेरी यादों का कारोबार,
मुनाफा कम है पर गुजारा हो जाता है !!

bahut mushkil se karta hoon tere yaadon ka kaarobaar,
munaafa kum hai par gujaara ho jaata hai !!

दिल पर दस्तक देने कौन आ निकला है,
किस की आहट सुनता हूँ वीराने में !!

dil par dastak dene kaun aa nikala hai,
kis kee aahat sunata hoon veeraane mein!!

पलक से पानी गिरा है, तो उसको गिरने दो,
कोई पुरानी तमन्ना, पिंघल रही होगी !!

palak se paani gira hai, to usko girane do,
koi puraane tamanna, pinghal rahee hoge !!

सिर्फ एक दफ़ाह पलटकर उसने,बीती बातों की दुहाई दी है,
फिर वहीं लौट के जाना होगा,यार ने कैसी रिहाई दी है !!

sirf ek dafaah palatakar usane,beete baaton kee duhaee dee hai,
phir vaheen laut ke jaana hoga,yaar ne kaisee rihaee dee hai!

सुनो जरा रास्ता तो बताना,
मोहब्बत के सफर से वापसी है मेरी !!

suno jara raasta to bataana,
mohabbat ke safar se vaapasi hai mere!!

हजारों ख्वाब टूटते है, तब कहीं एक सुबह होती है
हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते
वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते।

hajaaron khvaab tootate hai, tab kaheen ek subah hotee hai
haath chhooten bhee to rishte nahin chhoda karte
waqt ke shaakh se lamhe nahin toda karte.


zindagi gulzar hai Love Shayari


अब शाम नहीं होती, दिन ढल रहा है…
शायद वक़्त सिमट रहा है !!

ab shaam nahi hoti , din dhal raha hai…
shaayad vaqt simat raha hai!!

तुझको पाने की ख्वाहिश दिल मे लेकर घूम रहे है,
बस अपनी हकीकत से यूँ ही रोज मुह मोड रहे है !

tujhko paane ki khvaahish dil me lekar ghum rahe hai,
bas apni hakeekat se yoon hi roj muh mod rahe hai!

नजरों का खेल ही तो था सरकार……
तुम चुरा ना सकी और हम हटा नही सके !!

najaron ka khel hi to tha sarakaar……
tum chura na sakee aur ham hata nahi sake

जिंदगी जीना है तो तकलीफ उठानी पड़ेगी ही,
वरना मरने के बाद जलने का एहसास तक नहीं होता !

jindagee jeena hai to takaleef uthaanee padegi hi,
varana marane ke baad jalane ka ehasaas tak nahi hota!

जिंदगी ने सवाल बदल दिए, समय ने हालत बदल दिए,
हम तो वही है यारों पर लोगो ने अपने ख़्याल बदल दिए !

jindagee ne savaal badal die, samay ne haalat badal diye,
ham to vahi hai yaaron par logo ne apane khyaal badal diye !


तुम पर भी यकीन है मौत का भी ऐतबार है
देखते है तुम दोनों में पहले कौन मिलता है,
मुझे दोनों का इंतजार है !


Tum par bhi yakeen hai maut ka bhi aitabaar hai
Dekhate hai tum dono mein pehale kaun milta hai,
Mujhe dono ka intejaar hai !

Post a Comment

Previous Post Next Post